माइंडफुल ईटिंग खाने का ध्यानपूर्वक आनंद (Mindful Eating :The Present-Moment Pleasure of Food)

माइंडफुल ईटिंग

आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में हम अक्सर खाना खाते हुए भी उस पर पूरा ध्यान नहीं देते। हम मोबाइल चलाते हैं, टीवी देखते हैं, या काम करते हैं, जिससे पाचन क्रिया बिगड़ सकती है और ओवरईटिंग का खतरा भी बढ़ जाता है। माइंडफुल ईटिंग इस नुकसान का समाधान है। इसका मतलब है बिना किसी विचलन के सिर्फ खाने पर ध्यान देना। धीरे-धीरे खाना, हर निवाले का स्वाद लेना, खाने के दौरान किसी अन्य गतिविधि में शामिल न होना, माइंडफुल ईटिंग के प्रमुख पहलू हैं। इससे पाचन क्रिया बेहतर होती है, भूख का सही आकलन होता है, और खाने का अनुभव भी ज्यादा सुखदायी होता है।

माइंडफुल ईटिंग

माइंडफुल ईटिंग के लाभ:

  • पाचन में सुधार: माइंडफुल ईटिंग से पाचन क्रिया बेहतर होती है। इससे भोजन को पचाने में आसानी होती है और अपच, कब्ज जैसी समस्याओं से बचाव होता है।
  • भूख का बेहतर आकलन: माइंडफुल ईटिंग से भूख का बेहतर आकलन होता है। इससे ओवरईटिंग से बचाव होता है और वजन नियंत्रण में रहता है।
  • तनाव कम होता है: माइंडफुल ईटिंग तनाव कम करने में मदद करती है। इससे मूड बेहतर होता है और चिंता और अवसाद का खतरा कम होता है।
  • मानसिक स्वास्थ्य में सुधार: माइंडफुल ईटिंग से मानसिक स्वास्थ्य में सुधार होता है। इससे आत्म-जागरूकता बढ़ती है और जीवन में संतुष्टि का अनुभव होता है।
माइंडफुल ईटिंग

माइंडफुल ईटिंग की शुरुआत कैसे करें:

माइंडफुल ईटिंग की शुरुआत करने के लिए कुछ आसान उपाय हैं:

  • खाना खाते समय मोबाइल, टीवी या अन्य डिजिटल उपकरणों से दूर रहें।
  • एक शांत और आरामदायक स्थान चुनें जहां आपका ध्यान भटके नहीं।
  • धीरे-धीरे खाएं और हर निवाले का स्वाद लें।
  • खाना खाते समय अपने विचारों और भावनाओं पर ध्यान दें।
माइंडफुल ईटिंग

माइंडफुल ईटिंग के कुछ अभ्यास:

  • भोजन के पहले एक मिनट के लिए अपनी सांस पर ध्यान केंद्रित करें।
  • अपने भोजन को देखें, सूंघें और स्वाद लें।
  • हर निवाले को धीरे-धीरे चबाएं।
  • खाना खाते समय अपने विचारों और भावनाओं पर ध्यान दें।

माइंडफुल ईटिंग के लिए कुछ सुझाव:

  • शुरुआत में थोड़े समय के लिए माइंडफुल ईटिंग का अभ्यास करें।
  • अपने आप पर दबाव न डालें और धीरे-धीरे आगे बढ़ें।
  • अगर आपका ध्यान भटका तो उसे वापस खाने पर केंद्रित करें।

“माइंडफुल ईटिंग” सिर्फ धीरे-धीरे खाना या मोबाइल दूर रखना नहीं है। यह अपने पूरे अस्तित्व के साथ खाने के अनुभव में डूबना है। यह मन, शरीर और भोजन के बीच एक सचेत, गैर-निर्णात्मक जुड़ाव है। आइए, इस कला की परतों को उठाएं और इसके गहराई तक जाएं:

माइंडफुल ईटिंग – शरीर को सुनना:

माइंडफुल ईटिंग

भोजन की तैयारी से ही माइंडफुलनेस शुरू होती है। रसोई में कदम रखते ही तनाव छोड़ें, सुगंध का आनंद लें, सामग्री को छूएं, रंगों को देखें। भोजन पर बैठते ही अपनी शारीरिक संवेदनाओं को पहचानें। भूख कैसी है? पेट कितना भरा हुआ है? आराम से बैठें, रीढ़ सीधी रखें। आंखें बंद करके कुछ शांत गहरे सांस लें। मन को शांत करें, भोजन पर अपना पूरा ध्यान लाएं।

प्रत्येक निवाले का गीत:

खाना खाना कोई हड़बड़ी नहीं है। हर निवाले को छोटा लें, धीरे-धीरे चबाएं। विभिन्न बनावट, तापमान, स्वाद का अनुभव करें। मसालों का खेल, सब्जियों का कुरमुराहट, तरल पदार्थों का बहना, इन सारी संवेदनाओं को नोटिस करें। बिना किसी विश्लेषण के, बिना जज्बे के, सिर्फ अनुभव करें।

इंद्रियों का सिम्फनी:

माइंडफुल ईटिंग

भोजन सिर्फ स्वाद से ज्यादा है। प्लेट की सजावट, भोजन का रंग, बर्तनों की आवाज, ये सब मिलकर एक सिम्फनी बनाते हैं। इन चीजों पर ध्यान दें, आनंद लें। भोजन को देखकर मुस्कुराएं, कृतज्ञता महसूस करें।

भोजन के प्रति कृतज्ञता:

इस भोजन को प्लेट तक पहुंचाने में कितने हाथ लगे, कितनी मेहनत हुई, इसका ख्याल करें। किसानों, रसोइयों, ट्रांसपोर्टर्स, सबके प्रति कृतज्ञता जगाएं। इस आभार के साथ भोजन स्वादिष्ट ही नहीं, पवित्र भी हो जाता है।

भटकाव से मुक्ति:

मोबाइल, टीवी, किताबें, ये सब भटकाव के जाल हैं। खाने के समय इन्हें दूर रखें। बातचीत भी कम से कम करें। एक बार भोजन को ही अपना मित्र बनाएं।

भावनाओं का रडार:

भोजन करते समय अपनी भावनाओं पर नजर रखें। क्या गुस्सा, तनाव, हड़बड़ी के माहौल में खा रहे हैं? इन भावनाओं को पहचानें, स्वीकारें, और धीरे-धीरे उन्हें जाने दें। भोजन को भावनाओं का थैला न बनाएं।

प्रेम से खाओ, प्रेम से पचाओ:

माइंडफुल ईटिंग

खाना प्रेम से ग्रहण करें। हर निवाले को आशीर्वाद दें। शांति से खाएं, आराम से चबाएं। इससे पाचन क्रिया भी सहज और बेहतर होती है।

जीवन का अनमोल उपहार:

भोजन जीवन का अनमोल उपहार है। माइंडफुल ईटिंग से उसे सम्मान के साथ, कृतज्ञता के साथ ग्रहण करें। यह सिर्फ खाने का तरीका नहीं है, यह जीवन जीने का एक कलात्मक शैली है।

माइंडफुल ईटिंग के (FAQs):

  • माइंडफुल ईटिंग कितने समय तक करना चाहिए?

माइंडफुल ईटिंग का अभ्यास आप हर भोजन के दौरान कर सकते हैं। शुरू में 10-15 मिनट से शुरू करें और फिर धीरे-धीरे समय बढ़ाएं।

  • माइंडफुल ईटिंग के लिए क्या चाहिए?

माइंडफुल ईटिंग के लिए कुछ भी खास नहीं चाहिए। बस एक शांत और आरामदायक स्थान चुनें जहां आपका ध्यान भटके नहीं।

  • माइंदफुल ईटिंग को कैसे बनाए रखें?

माइंडफुल ईटिंग को बनाए रखने के लिए नियमित अभ्यास जरूरी है। आप माइंडफुल ईटिंग के बारे में किताबें, लेख या ऑनलाइन सामग्री पढ़ सकते हैं। इसके अलावा, आप माइंडफुल ईटिंग के लिए विशेष क्लास या सेमिनार भी ले सकते हैं।

निष्कर्ष

माइंडफुल ईटिंग एक ऐसा तरीका है जिससे आप अपने खाने का आनंद ले सकते हैं और अपने स्वास्थ्य को बेहतर बना सकते हैं। यह एक सरल लेकिन प्रभावी तरीका है जो आपकी दिनचर्या में आसानी से शामिल किया जा सकता है।

Leave a Comment

Benefits of using tomatoes for skincare Know the common symptoms of diabetes Best exercise for asthma patient 10 common foods that can cause skin allergies Foods to avoid congestive heart failure Benefits of tomato for female